You are currently viewing आउटपुट डिवाइस क्या है? सम्पूर्ण ज्ञान In Hindi
ccchindi

आउटपुट डिवाइस क्या है? सम्पूर्ण ज्ञान In Hindi

आप लोगों को भी कुछ नया जानने को जरूर मिलेगा। Output Device कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण Device होता है। लेकिन अगर आपको पता नहीं है कि Output Device क्या है और इसका क्या कार्य होता है। यह क्यों इतना महत्वपूर्ण होता है। तब चलिए इस लेख को पूरा पढ़कर Output Device की पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं। तो चलिए सबसे पहले Output का अर्थ समझते हैं।

आउटपुट क्या है? (What is Output in Hindi)

Output Device हार्डवेयर होते हैं जिनका उपयोग टेक्स्ट और ग्राफिक्स प्रदर्शित करने के लिए किया जा सकता है। आउटपुट डिवाइस में आमतौर पर एक Screen होती है | जो Computer के इनपुट डिवाइस द्वारा  दिए गये निर्देशों को Processing होने के बाद जिस डिवाइस में उसका परिणाम हार्डकापी के रूप में (प्रिंटर) या सॉफ्ट कॉपी (मॉनिटर) दीखता अर्थात प्रदान करता है वह Output Device कहलाता है। 

output device kya hia in hindi

जब Computer को कोई निर्देश या आदेश दिया जाता है। तब उस निर्देश या आदेश को Computer के Central Processing Unit के द्वारा Process किया जाता है। जिसके पश्चात उस निर्देश या आदेश का परिणाम (Result) Computer के Output Device को दे दिया जाता है। OUT का मतलब है बहार और PUT का मतलब रखना, पूरा मतलब हुआ बहार रखना। प्रोसेस डाटा को यह Device बहार दिखाती है। EX- Monitor, Speaker, Printer, Projector, Plotter

आउटपुट डिवाइस के प्रकार (Types of Output Device in Hindi)

Output Device को दो हिस्सों में बाँटा जा सकता है। तो आउटपुट डिवाइस के दो प्रमुख प्रकार हैं |

  • Soft Copy Output Device
  • Hard Copy Output Device

Soft Copy Output Device

ये वो Output Device होते हैं जिनके द्वारा प्रदान किया गया Output अमूर्त प्रारूप (Intangible Form) में होता है। यानी की जिसे हम छु या महसूस नहीं कर  सकते हैं। इनका कोई आक़ार नहीं होता है, इनका कोई फ़िज़िकल Existence नहीं होता है। उदाहरण :- Monitor, Speaker

Hard Copy Output Device

ये वो Output Device होते हैं जिनके द्वारा प्रदान किया गया Output मूर्त प्रारूप (Tangible Form) में होता है। यानी की जिसे हम छु या महसूस कर सकते हैं। इसका आक़ार होता है। उदाहरण :- Printer, Plotter

आउटपुट डिवाइस के नाम उदाहरण सहित – Output Device Example

  • मॉनिटर – Monitor
  • प्रिंटर – Printer
  • प्रोजेक्टर – Projector
  • प्लॉटर – Plotter
  • स्पीकर – Speaker
  • टच स्क्रीन – Touchscreen
  • हेडफोन – Headphones

मॉनिटर – Monitor

Monitor एक महत्वपूर्ण Output डिवाइस है। इसे विजुअल डिस्प्ले यूनिट भी कहते है। यह चित्रात्मक रुप से Computer के परिणाम (Result) को दिखाता है। यह दिखने में बिलकुल TV की तरह ही होता है। Monitor पर Computer के Output को सॉफ्ट कॉपी में दिखाता है। एक बड़ा और बढ़िया हमे Fine Graphics दिखाने में मदद करता है। यह Hardware, Video Card के इस्तमाल से Video और Graphics Produce करता है। Monitor इन नामों से भी जाने जाते हैं Screen, Display, Video Display, Video Display Terminal, Video Display Unit और Video Screen.

Monitor दो प्रकार के होते हैं |

  1. CRT (Cathode Ray Tube) Monitor
  2. LCD (Liquid Cristal Display) Monitor

CRT (Cathode Ray Tube) Monitor

CRT (कैथोड रे ट्यूब) टेक्नॉलॉजी इसमें कैथोड रे ट्यूब लगी होती है जो इसमें कैथोड किरणे फ्लेरेसेंस Screen पर गिरता है और डिफ्लेक्ट होकर पिक्चर बनाती है | ये दो प्रकार के होते है –

  1. Monochrome – मोनोक्रोम: जोकि Black और White पिक्चर दिखता है |
  2. Color – कलर: इनमे तीन प्रकार के फॉस्फोरस जोकि लाल, हरा और नीला रंग होने के कारण कलर पिक्चर बनता है |

LCD (Liquid Cristal Display) Monitor

यह Video पतला फ़्लैट होता है तथा इसमें माडयूलेटिंग Technology होती है | यह भी दो प्रकार के होते है –

  1. TFT (Thin Film Transistor) – टीएफटी (थिन फिल्म ट्रांजिस्टर): यह LCD का एक प्रकार है और मैट्रिक्स बनाता है, लेकिन सेल्फ लाइटिंग नहीं |
  2. LED (Light Emitting Diode) – एलईडी (लाइट एमिटिंग डायोड): यह सेल्फ बैक लाइट एमिटिंग तकनीक है, जो पिक्चर क्वालिटी बेहतर बनाता है |

प्रिंटर – Printer

Printer एक Output डिवाइस है जो Computer से Data प्राप्त कर उसका Output हार्ड कॉपी के रूप में प्रिंट करता है | Printer क्वालिटी को डाक पर इंच (DPI) में नपा जाता है | Printer इतनी तेजी से कार्य नहीं कर पाता। इसलिये यह आवश्यकता महसूस की गयी कि जानकारियों को Printer में ही Store किया जा सके। इसलिये Printer में भी एक Memory होती है जहाँ से यह परिणामों को धीरे-धीरे Print करता है। प्रिंटर दो प्रकार का होता है-

  1. Impact Printer – इम्पैक्ट प्रिंटर
  2. Non-Impact Printer – नॉन-इम्पैक्ट प्रिंटर

Impact Printer – इम्पैक्ट प्रिंटर

इस प्रकार के प्रिंटर स्याही वाले रिबन पर स्ट्राइक करते है और कागज छाप बनाते है इसमें एक धातु या प्लास्टिक का हेड होता है जिसमे डाक मैट्रिक्स में 9 पिन या 24 पिन हेड, सिम्बल और कैरेक्टर होते है | ये प्रिंटर शोर करते हुए, धीमे, सस्ते और ख़राब गुणवत्ता वाले Output देता है कह सकते है की यह वह Printer होता है जोकि प्रिंट करते समय हैमर करके इम्प्रेशन बनाता है जैसे – डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर, डेजीव्हील प्रिंटर , लाइन प्रिंटर, चैन प्रिंटर और ड्रम प्रिंटर आदि |

Non-Impact Printerनॉन-इम्पैक्ट प्रिंटर

ऐसा प्रिंटर जो किसी भी पेपर पर बिना किसी प्रभाव एवं प्रहार के अक्षर तथा चित्र को उच्च गुणवत्ता (High Quality) के साथ प्रिंट करता हो नॉन इम्पैक्ट प्रिंटर कहलाता है | यह प्रिंटर प्रिंटिंग में इलेक्ट्रोस्टैटिक केमिकल और इंकजेट तकनीक का प्रयोग करता है | इस प्रिंटर के द्वारा ब्लैक एंड वाइट तथा रंगीन दोनों तरह के प्रिंट प्राप्त कर सकते है |यह प्रिंटर इम्पैक्ट प्रिंटर के मुकाबले कम शोर उत्पन करता है | तथा तेज गति के साथ प्रिंटिग करता है |

प्रोजेक्टर – Projector

Projector एक तरह का ऑप्टिकल Device होता है जो इमेज या वीडियो को एक Surface पर प्रोजेक्ट करता है जिसे Projection Screen कहा जाता है। जो प्रायः किसी मीटिंग या प्रेजेंटेशन में प्रयोग में आती है | यह लेंस का उपयोग कर किसी फिल्म को किसी आब्जेक्ट पर फ्लैश या प्रसारित करता है | प्रोजेक्टर Computer की एक Output Device है जिसके द्वारा किसी भी प्रकार के इमेज या Video को सफ़ेद परदे या दीवार पर दिखाया जाता है।

प्लॉटर – Plotter

यह एक Output Device है जो किसी Printer की तरह कंटेट्स को पेपर पर प्रिंट करता है लेकिन उसका उपयोग Plotter सामान्य रूप से बड़े आकार के ग्राफ, पोस्टर, चार्ट, 3D Print आदि को प्रिंट करने के लिए किया जाता है | अभियाँत्रिकों विभाग में भी होता है जैसे को कोई आर्किटेक्टर ड्राइंग या मैप प्रिंट करना इत्यादि |

जिस प्रकार से सामान्य Printer में कागज़ को प्रिंट करने के लिए डॉट्स की एक श्रंखला और टोनर का इस्तेमाल होता है लेकिन Plotter में कागज़ पर निरंतर लाइनों को खीचने के लिए पेन, मार्कर या अन्य किसी लेखन उपकरण का इस्तेमाल किया जाता है |

स्पीकर – Speaker

यह एक Output Device है जो साउंड या Music को प्ले कर ध्वनि उत्सर्जन का कार्य करता है जो एक Output है | इसका उपयोग मल्टिमीडिआ Application में होता है जिससे कोई भी साउंड या Music को आसानी से सुना जा सकता है | इसे ध्वनि तरंगों के रूप में उपयोगकर्ता को Output करता है। साउंड डेटा हमेशा Computer से स्पीकर में प्रवाहित होता है जो कि अन्य सभी Output डिवाइसों की तरह ही यह संचालित होता है।

टच स्क्रीन – Touchscreen

जहाँ हम पहले Traditional input devices के तोर पर computer systems में keyboards और mouse का इस्तमाल करते थे, वहीँ पिछले कुछ वर्षों से हम इन touchscreen technology का इस्तमाल बड़े पैमाने में कर रहे हैं computer या mobile system के साथ interact करने के लिए | इसके साथ अभी regular laptop और desktop computers में touchscreen displays के साथ traditional input device का भी इस्तमाल करने की सुविधा प्रदान कर रहे हैं जिससे users के पास ज्यादा options मेह्जुद हो इस्तमाल करने के लिए |

हेडफोन – Headphones

हेडफ़ोन आमतौर में छोटे स्पीकर की एक जोड़ी है जिसका कंप्यूटर, म्यूजिक प्लेयर या ऐसे अन्य किसी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण से ऑडियो सुनने के लिए उपयोग किया जाता है। हेडफ़ोन को इयरफ़ोन, स्टीरियोफ़ोन, हेडसेट या यहाँ तक कि ‘कैन‘ के रूप में संदर्भित किआ जाता है। हैडफ़ोन के ईयरबड्स को कान में डाले जाते हैं। हेडफ़ोन एक कंप्यूटर हार्डवेयर में आउटपुट डिवाइस होता है जो कंप्यूटर लाइन आउट या स्पीकर पोर्ट में प्लग किआ जाता है।

यह भी पढ़ें:

 इनपुट डिवाइस क्या है?

Adding Printers in Hindi | प्रिंटर जोड़ना साझा करना

इंटरनेट क्या है? ,कब आया? | What is Internet in Hindi

विंडोज़ ऑपरेटिंग का इतिहास – Microsoft Windows OS History in Hindi

This Post Has 3 Comments

Leave a Reply